Saturday, August 31, 2013

इललीगल लैंड-ग्रैब

इललीगल लैंड-ग्रैब
के टॉप टेन
भगवान् के कलर्क मुंशी ऑडिटर और घोटाला खोजी दल वापस इंडिया आकर भूमि मतलब जमीन की जबरिया कब्जा यानी "इललीगल लैंड-ग्रैब" की जांच करेगा तो भारी पेशोपेश में पड़ जायेगा! जिसे कौन ठीक करे और किसे दण्डित करे की भारी द्विविधा खड़ी हो जावेगी!
_केड़े? मतलब कईसे???????????
*_इंसानों की वजह से सबसे बड़े घोटालेबाज और सबसे ज्यादा इललीगल जमीन को कब्जाने वाले तो, महाराज :
_नंबर-1. हनुमान जी हैं,जी! जिनकी पूँछ अधिक की सीमा लांघे जा रही हैं, सबसे ज्यादा ज़मीन ये ही कब्जाये बैठें हैं! इनको बिहार में खूब मन लगता है! ईहैं समुच्चे राज्य में तो फैले ही हैं! पूरे देस में भी इनकी धाक है, जिसके नीचे दारु के अड्डे, गुटखा पान के खोमचे और ढाबा हैं जिसमे जो मन करे मनमानी करते हुए बजरंग बलि की जय -"गोलिये"- से बोलिए! कान फाडू लाउडस्पीकर की आवाज में फूहड़ गंदे भद्दे भोजपुरी गाने बजाईये, खुद तो बेईज्ज़त होईये ही, अपनी बहन को भी मत छोडिये ~ अर्ज़ है :
"धान कूटअ हो दुलहा धान कूटअ हो
अपना बहिनी के ओखरी में धान कूटअ हो!"
गाँजा की चिलम सुल्गाईये, खींचिए सूटा और आठ फुट की लम्बाई जिनती लम्म्म्मबी धुंवें की पिचकारी छोड़िये! खैनी मलिए, रगड़िये, ठोकिये, ओठ के नीचे रखिये, और थूक की पहली पिचकारी बजरंग बलि को अर्पित कीजिये! एक छोकरे की माँ की पैदाईश पर सवालिया निशान लगाते हुए उसे हँकाईये, और एक बियर की बोतल और चिल्ली चाउमिन मंगवाईये! CD बदलिये दूसरा भाँड़ खोलिए और बिसर बास मारता कोई और बुरी बेईज्ज़ती के आलाप में खो जाईये!
बोलिए जय श्री राम!
जय माता दी!
जय बिहार!
जय नेता जी!
चरका बोलेरो वाले जी की जय!
लाल बत्ती वाले जी की जय!
लाल गमछा वाले की जय !
_"ए हो, लभली ?"
_"का ह ?"
_"देबू ना का?"
_"का दीहीं ?"
_उहै !"
_"जा जा !"
_"हाय हाय !! मन त करत बा कि "-चापाकल में-" कूद के जान दे दिहीं! अरे, गे छिनरी, हमरा "हउ" चाहीं !!"
(तौबा!)
_नंबर 2. गान्ही बाबा! समुच्चे देस में जमीन कब्जाए हुए हैं
_नंबर 3. आम्बेडकर बाबा! समुच्चे देस में जमीन कब्जाए हुए हैं
_नंबर 4. सुभाषचंद्र बोस! समुच्चे देस में जमीन कब्जाए हुए हैं
_नंबर 5. ज्ञात भारतीय स्वतंत्रता सैनानी! समुच्चे देश में जमीन कब्जाए हुए हैं
_नंबर 6. अज्ञात भारतीय स्वतंत्रता सैनानी! समुच्चे देस में जमीन कब्जाए हुए हैं
_नंबर 7. विख्यात उद्योगपति! समुच्चे देस में जमीन कब्जाए हुए हैं
_नंबर 8. अज्ञात सेठ जी! समुच्चे देस में जमीन कब्जाए हुए हैं
_नंबर 9. भईया जी! समुच्चे देस में जमीन कब्जाए हुए हैं
_नंबर 10. भईया जी के चमचे! समुच्चे देस में जमीन कब्जाए हुए हैं
श्री भगवन बोले :"हे गुरुदेव, ऋषियों, देव, एवं देवियों इससे पहले की हम पर कोई मुक़द्दमा दायर हो पृथ्वी को छोड़ दीजिये! इस समय यही समाधान है, अपनी रक्षा कीजिये, ताकि हमारा अपना अस्तित्व भंग न हो! और अबकी बार हम अमेरिका इंग्लैण्ड तरफ ही अवतरित होने की सोचेंगे, भारत अब -भरत- के लायक नहीं रहा! कोई रावण इसे क्या सताएगा? _बेचारी पृथ्वी की तो यही दुर्गति हर कल्प में लिखी है, और हम विवश हैं! क्योंकि हम जिस भारत में अवतार लेते रहें हैं उसमे हमारे अंश, ग्यारहवें रूद्र हनुमान जी की यूँ फजीहत बर्दाश्त के काबिल नहीं! और हमारे जन्म स्थान को राजनीती का आखाड़ा बनाया जाय यह अधिकार मनुष्यों ने स्वयं सिद्ध कर लिया और उसे ही रणभूमि बना डाला _यह हम में से किसने कब और कहाँ कोई ऐसा प्रमाण दिया है??? छोड़ दीजिये इस घोटाले की धरती और भारतीय भूखण्ड को! यह श्रीहीन हो चुकी है! इस भूखण्ड पर हमारी कोई जरूरत नहीं! ये ढीली लंगोटी वाले लम्पटों की भूमि बन चुकी है, जिसका स्वतः विनाश तय है!
_शिक्षक !
_रक्षक !
_ब्यापारी ! और
_सेवक !
सभी के सभी काम क्रोध मोह लोभ माया डाह ईर्ष्या मद मत्सर घमंड और उन्माद में अब सर्वस्व गँवा चुके हैं! इसकी आयु, _अल्पायु है और कीर्ति नष्ट हो चुकी है! इसीलिए इनकी कोई भी पूजा हम तक नहीं पहुँच पाती! अतः पाखण्ड का साम्राज्य है! इसकी अभी और दुर्गति होनी है!
आईये हम फिर से ब्रम्हलीन हो जायँ!
और भगवन ने मंदिरों को त्याग दिया!
भगवन की जो भी तस्वीर है, वह काल्पनिक है! उसमे वह है ही नहीं! जो कण कण में था आज अपनी मूरत में भी नहीं है! इसका जिम्मेदार और कुसूरवार खुद इन्सान है!
सत्याग्रह (फिल्म)
"बेबस है मेरी आँखें तुझे बार-बार देखने के लिए,
क्या करूँ, मुझ पर मेरा कोई जोर नहीं है !" 
_अभी-अभी प्रकाश झा -निर्देशित फिल्म "सत्याग्रह" देख कर लौटा हूँ! घर में खाना लगाया जा रहा है, कि पहले खा लूँ फिर अपनी खटर-पटर करूँ! लेकिन साब जी, बिन बोले रहा नहीं जाता! अमिताभ भईया को इसमें नहीं रख के दिलीप कुमार साहब को या धर्मेन्द्र (पा - जी ) को भी रख लेते ना तो आपकी इस बहू-प्रतीक्षित फिल्म का यही हश्र होना था! अमिताभ भईया ऐसी कहानियों की फिल्मों के लिए बने ही नहीं हैं! वे अपनी मित्र-वत्सलता के कारण कोई भी नजदीकी ("नजदीकी" पे ख़ास जोर है) मित्र निर्माता-निर्देशक को इन्कार नहीं करते, और उनके करोंड़ो प्रशंसकों के मुँह से फिल्म ख़त्म होते ही जो वाणी मुखरित होती है वह हम भक्तों को नहीं भाति, फिर भी गाली सहने और खामोशी की यही वजह होती है कि उन्हें इस फिल्म में टोटली वेस्ट किया गया है! सो, सहन कर शहीद होना पड़ता है! ना जी, फिल्म ONLY ONE DAY SHOW है, जो अपना कोई मेसेज, जो इस फिल्म से प्रकाश झा देना चाहते थे, वह नाकाम रहा, नहीं दे पाये! फिल्म में कई वास्तविकताएं हैं, इससे इन्कार नहीं, लेकिन वे कोई भी जागृति को तो छोडिये मनोरंजन तक नहीं करतीं! बासी और उबाऊ लगतीं है! मनोज बाजपेयी बहुत अच्छे अभिनेता हैं, इसमें भी खूब मन लगा कर अपने किरदार को निभाया है! लेकिन अमित भईया का कद्दावर व्यक्तित्व जब धूमिल होता है, तो सब बेकार लगने लगता है! निःसंदेह यह फिल्म अन्ना हजारे से कोई ताल्लुक नहीं रखती! लेकिन मंच पर झंडा लहराने का ढंग और नारों से छपी सफ़ेद टोपी यही बयाँ करती है, कि कुछ प्रेरणा -टी.वी.- से तो लिया ही गया है! आखिर ABP न्यूज़ चैनल की भी तो इसमें कुछ इन्वेस्टमेंट है, जो साफ़ नज़र आती है!
अमिताभ बच्चन का बेटा इंजिनियर है, जिसकी शादी अमृता राव (सुमित्रा) जो एक अल्हड़ धनवान की बहन है, से हुई है! अमित जी सच्चे पक्के दृढ निश्चयी गांधीवादी बुजुर्ग हैं! जो एक सड़क हादसे में में मारे गए अपने इंजिनियर बेटे की मौत के मातम में हैं! राज्य का मंत्री इंजिनियर साहब की मौत पर घड़ीयालु आँसू बहते हुए """पच्चीस लाख""" रुपये, मृतक के शोक संतप्त परिवार को मुआवजे में देने की घोषणा करता है! यह घोषणा मनोज बाजपेयी करते हैं जो राज्य की गठबंधन सरकार के दुसरे घटक हैं! इसी मुआवजे को वसूलने में मृतक की पत्नी अमृता राव को डिस्ट्रिक्ट कलकटेरीयेट में व्याप्त बेईमानियों से हुई फजीहत से मेरे भईया जिनका नाम -"द्वारका आनंद"- है भड़क कर जब जिला कलेक्टर के कार्यालय में जबरन घुसते हैं, तो उस वक़्त उनकी चाल the incredible and famous stride of the living legend Amitabh Bachchan और उनके उस वक़्त के तेवर हमें थोडा इत्मीनान और यकीन दिलाने की कोशिश करते हैं, कि बस्स पईस्सवा वसूल होने ही वाला है! अमित भईया की DC से गर्मा-गर्मी और झड़प होती है और वही हुआ जिसकी उम्मीद में हम हमेशा रहते हैं, भईया ने DC को झापड़ मार दिया! जेल में डाल दिए गये! विधवा बहु इसकी सूचना अपने (अजय देवगन) मानव भईया को देती है! मानव, करप्ट सिस्टम को समझता है, और अपने तरीके से मदद करना चाहता है, जो नाकाम होती है! शहर का छुटभईया नेता अर्जुन रामपाल (अर्जुन) और किसी ज़माने में अमित जी का बिगडैल विद्यार्थी भी इसमें अपने हाथ आजमाता है, पर भईया उसकी मदद लेने से मना कर देते हैं! लेकिन मानव (अजय देवगन) हार नहीं मानता, ABP NEWS की कोरेस्पौन्डेंट करीना कपूर (यस्मिन अहमद), और इंटरनेट, facebook, और कॉलेज के नौजवानों और अर्जुन की सहायता और पैसे के दम पर एक आन्दोलन खड़ा कर देता है, जिसकी गर्मी सरकार और भ्रष्ट नेता बलराम सिंह (मनोज बाजपेयी) झेल नहीं पाता! और वह DC पर दबाव डालकर भईया के खिलाफ केस वापस लेकर उन्हें रिहा कर देता है! जब उन्हें मुआवजे की रकम का चेक दिया जाता है तो वे मनाकर देते हैं! शर्त रखते हैं कि इस कल्र्कटेरियेट में जितने पेंडिंग पेटिशंस हैं, का तत्काल निपटारा किया जाय, वरना वे जन आन्दोलन करेंगे!
बस भईया का रोल ख़तम!
फिर आमारण अनशन!
इन पेटिशंस की संख्या का अनुमान भी लगाकर दिखाया गया है! अजय देवगन सुधरे शहीद हीरो बनकर आन्दोलन का हिस्सा बनते हैं! इंजिनियर की मौत का रहस्य भी खुलता है! नतीजा सिर्फ …… अब क्या बोलूं?
अमिताभ बच्चन जैसी शख्शियत का बुरा अंजाम कोई पहली बार नहीं हुआ है! एक और सही!
भईया बस एक आइकॉन की तरह दिखते रहते हैं! और लास्ट में धत्त धत्त धत्त हो जाते हैं!
फिल्म की जान किस कलाकार में है इसका पता लगाना मुश्किल है! अमिताभ बच्चन के बेमिसाल शख्शियत का प्रयोग तो ऐसा होना चाहिए जो दिलीप कुमार के साथ सुभाष घई ने "विधाता", "कर्मा" और राजकुमार दिलीप कुमार को संग लेकर "सौदागर" में किया! पर हमारे सोचने से क्या होता है, साब!!?
साफ़ और दो टूक _ यह एक फ्लॉप है! मत देखिये!
आईन्दे के लिए कान पकड़ता हूँ, जब तक भईया की जयजयकार सुन नहीं लूँगा कि उन्होंने फलाने नए फिल्म में -"गज़ब-ढा"- दिया है, उनकी नयी कोई भी फिल्म देखने नहीं जाऊँगा!
वजह ये है कि मौजूदा दौर में बॉलीवुड के किसी भी राइटर की कलम में भईया की अजिमोश्शान शख्शियत को सलाम करने का दम नहीं है!
प्रकाश झा की सत्याग्रह में कोई भी कलाकार बुरा नहीं लगा! सभी अपने अपने जगह पर जमे और कसे हुए हैं!
बस, कहानी में ही कोई दम नहीं है!
डायलॉग्स हैं ही नहीं, जो भईया की ख़ास खासियत और खासुसियत को मजबूती से स्थापित कर सके!
कुल मिलकर यह फिल्म अमिताभ के प्रशंसकों को निराश कर गई!
बस यही गनीमत जानिये कि मेरे अपने मुँह से कोई गाली नहीं निकली!
_श्री .