Wednesday, January 9, 2013

मेरी सेंचुरियन नानी

परपोते-परनाती ध्यान दें :
सीरिकंतवा (श्रीकांत) अबहीं ले ना आइल !? .......नानी। मेरी नानी। कितनी उम्र होगी इनकी? ...ये अंदाजा गलत होगा, इसलिए यह गणित छोड़कर मैं अपनी नानी को अब सेंचुरियन नानी बोलता हूँ। कल दोपहर को उसके पास बैठकर भोजन के दरम्यान मैंने नानी से कहा था कि -'नानी हमारा साथे फोटो खिचावैयेबे नुं? अभी कैमरा नईखीं ले आइल, काल्ह ले के आइब, तइयार रहिहे। तोर फोटो खिंचब। ठीक नु?'
नानी उसी शाम से खुद बाल संवारकर तैयार बैठ गई। मामा-मामी बोलते रहे कि फोटो अगले दिन खीचने के लिए श्रीकांत आवेगा, पर रह-रह कर बात भूल जाने वाली मेरी नानी ने जिद्द पकड़ ली और गुस्से में मुझे बुलाने को कहने लगी -' बोलावअ ओकरा के उ कहलक ह कि हमार फोटो खींची, त अबले आइल काहे ना?' यूँ ही नानी ने किसी को अपने बाल छूने नहीं दिए कि -'अरे रहे ना द, फोटो नू  खिचावे के बा!'
आज सबेरे ऑफिस (गद्दी) में मामा का फ़ोन आया तब हँसते हुए ये बातें बता कर उन्होंने कहा कि मैं नानी से किया अपना वादा पूरा करूँ अन्यथा नानी तंग करेगी। सो, आज दोपहर मैं अपनी सेंचुरियन नानी के पास पहुँच गया _मुझे आया देखकर नानी नन्हें बच्चे की तरह प्रसन्न हो गई ... नानी ने तेल मांग कर बालों में लगाया, फिर उनकी जिद्द के बावजूद मामी ने उनके बाल सँवारे, और फोटो खिचना चालु _

















(...जाड़ा तो है ही, मैंने मुंडन करवाया है इसलिए भी टोपी...!) मैंने फोटो उसके ओरिजिनल साइज़ से छोटा करके पोस्ट किया है।

_श्रीकांत >